TQM क्या है? Total quality management in hindi की पूरी जानकारी

TQM यह एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमे ग्राहकों की आवश्यकताओं को और संस्था के उद्देश्यों को पूरा करने के लिए सभी संगठनात्मक कार्य को एकीकृत करता है। जिसमे  Marketing, Finance, Design, Engineering, Production और Customer Service इत्यादी आते है। याने tqm यह मैनेजमेंट का एक ऐसा सिद्धांत है, जो हर प्रकार के उद्योग, संस्था या कंपनी में गुणवत्ता लाने के लिए मदद करता है। 

यह TQM Quality System संगठन को बेहतर और मजबूत बनाने के लिए कर्मचारी से लेकर डायरेक्टर तक को पूर्ण अधिकार देता है, ताकि वह सम्बंधित उत्पाद और सेवाओं में सुधार और प्रक्रियाओं द्वारा प्रबंधन व गुणवत्ता बनाए रखने की जिम्मेदारी ले सके।

tqm in hindi, quality management system in hindi, what is quality management system, tqm full form, total quality management in hindi, tqm meaning in hindi, tqm principles, benefits of tqm, tqm process, सम्पूर्ण गुणवत्ता प्रबंधन का मुख्य लाभ

tqm full form - TQM meaning in Hindi

TQM का fullform 'Total Quality Management' होता है। और हिंदी में tqm का फुलफॉर्म 'कुल गुणवत्ता प्रबंधन' होता है।


TQM क्या है?  What is tqm in Hindi

TQM यह कार्य प्रणाली ग्राहकों की आवश्यकता और उनके उद्देश्य को पूरा करने के लिए उपयुक्त है, जिससे कोई भी संगठन बेहतर और परिपक्व बनाता है। Total quality management system में हर एक प्रोडक्ट को जाचा जाता है और यह उनमे आने वाले हर कमी का, दोष का मुख्य कारण खोजता है और उन दोषों को दूर करता है, ताकि उत्पाद में कोई कमी न रहे, जिससे ग्राहक का समाधान होता है, गुणवत्ता में सुधार और उत्पादन लागत को कम करने का प्रयास होता है।

Total quality management system शुरुवाती प्रक्रिया में ही गुणवत्ता अपनाने की मूल धारणाको मानता है। यह धारणा 'विलियम एडवर्ड डेमिंग' ने प्रस्तावित किया है, जिन्हें गुणवत्ता गुरु माना जाता है। आज tqm सभी प्रकार के Organisation जैसे छोटे व्यवसाय से लेकर बड़े बड़े संस्था में लागु किया जाता है, जैसी की शैक्षिक संस्थान, इंजीनियरिंग संस्थान, कंपनी, दुकान-शॉप, कोई भी दफ्तर, निर्माण केंद्र, अस्पताल, या सरकारी संस्था तक ने इसे लागु किया है। याने आज के समय में यह quality system सभी उद्योग व्यापार व गतिविधियों मैं लागू किया जाता है।

किसी भी संगठन में जब भी TQM लागु किया जाता है, या इस कार्य प्रणाली का पूर्ण लाभ उठाने के लिए उन संगठन के व्यक्तियों में तालमेल होना बहुत जरुरी है। तभी ऐसे संगठन अपनी संस्था के लिए व्यापक और बेहतर योजना बना पाएंगे, जिसमें प्रत्येक कर्मचारी और वर्कर को उसके काम की और उसकी टीम के काम की गुणवत्ता बनाए रखने की जिम्मेदारी दी जाती है। और निर्माण प्रक्रिया में हर एक प्रोडक्ट के दोष को कम करके लगातार गुणवत्ता सुधारने पर कोशिश की जाती है।

TQM in Hindi - total quality management in Hindi

Total Quality Management को  William Deming ने 1980 में विकसित किया था, जिसे शोर्ट में TQM कहा जाता है और हिंदी में 'सम्पूर्ण गुणवत्ता प्रबन्धन' कहते है। TQM यह कभी भी खत्म नही होने वाला प्रोसेस है, जो सबसे पहले ग्राहक को ध्यान में रखकर शुरू होता है और कभी खत्म नही होता है। क्योंकी इसका लक्ष गुणवत्ता को लगातार बेहतर बनाना है।
निचे Total Quality Management (TQM) की अवधारणा को समझने वाले तीन शब्दों को जाने।
  1. Total (कुल) - कंपनी से जुड़े हर कोई ग्राहकों और आपूर्तिकर्ताओं सहित निरंतर सुधार में शामिल है।
  2. Quality (गुणवत्ता) - ग्राहकों की उल्लिखित और निहित आवश्यकताएं पूरी तरह से पूरी होती हैं।
  3. Management (प्रबंधन) - कार्यकारी पूरी तरह से प्रतिबद्ध हैं।


TQM Principles - Total quality management के सिद्धांत

किसी भी संगठन में tqm को लागू करने से संस्था की गुणवत्ता, ब्रांड, ग्राहक समाधान, ग्राहकों में विश्वास बढ़ता है, और कंपनी की लगातार ग्रोथ होती है। इसके लिए इस quality system के कुछ सिद्धांत याने Principles है जिसमे किसी संगठन को सुधारने के लिए सभी को दी जाने वाली गतिविधियाँ को निर्देशित किया जाता है। निचे हमने अनुक्रम में tqm principles की लगभग पूरी जानकारी दी है।

1. Continual Improvement - निरंतर सुधार:
लगातार गुणवत्ता सुधार यह TQM का एक मुख्य सिद्धांत है। इस सिद्धांत से बेहतर और उच्च गुणवत्ता वाली प्रक्रियाएं होंगी। और यह घटक सुनिश्चित करता है की, कंपनी बेहतर गुणवत्ता वाले प्रोडक्ट्स का उत्पादन करने के साथ साथ ग्राहकों की अपेक्षाओं से अधिक उत्पादन करने के नए तरीके और तकनीकें प्राप्त करे। और प्रतिस्पर्धी संस्थाओं के आगे अधिक प्रभावी और सक्षम बने।

2. Communications - संचार: 
कोई भी कंपनी हो या संगठन इन में Communications/संचार यह कर्मचारियों को प्रेरित करने और मनोबल बढ़ाने के लिए एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यहाँ कर्मचारियों को दिन-प्रतिदिन के कार्यों और निर्णय लेने की प्रक्रिया में अधिक से अधिक शामिल होने की आवश्यकता है, ताकि उन्हें सशक्तिकरण की भावना मिल सके जिससे उनमे एकता का वातावरण बनता है। और यह सिद्धांत उन परिणामों को चलाने में मदद करता है जिनमे रणनीति, विधि और समयबद्धता इत्यादी की प्रक्रिया शामिल है।

3. Employee Involvement - कर्मचारियों की भागीदारी:
सामान्य कामकाज, रणनीति, या किसी कार्य प्रणाली में कर्मचारियों की भागीदारी होना चाहिए, जिससे लक्ष्यों और व्यावसायिक उद्देश्यों को प्राप्त करने में कुल कर्मचारी के सशक्तिकरण और निर्णय लेने और गुणवत्ता से संबंधित समस्याओं के समाधान में कर्मचारियों की सक्रिय भागीदारी होती है। यदि मैनेजमेंट ने कर्मचारियों के लिए उचित वातावरण प्रदान किया है, तो कार्यक्षेत्र को अधिक खुला और भय रहित बनाकर कर्मचारी सशक्तिकरण और भागीदारी को बढ़ाया जा सकता है। यह सिद्धांत सामान्य कार्यों के साथ निरंतर सुधार के उद्देश्यों को पाने में मदद करता हैं।

4. Customer satisfaction - ग्राहक संतुष्टि:
कंपनियों को ग्राहकों को ध्यान में रखते हुए हर प्रोडक्ट में सुधार और गुणवत्ता लानी चाहिए, क्यों की ग्राहक यह निर्धारित करने के लिए अंतिम न्यायाधीश हैं कि, आपके उत्पाद या सेवाएं बेहतर गुणवत्ता के हैं या नहीं। यही ग्राहक दृष्टिकोण को जानकर TQM को लागू कर सकते है।

5. Integrated management process - एकीकृत प्रबंधन प्रक्रिया:
यह एकीकृत प्रबंधन प्रक्रिया प्रणाली निरंतर सुधार सुनिश्चित करती है, जो कंपनियों को एक प्रतिस्पर्धी बढ़त हासिल करने में मदद करती है। कंपनी में विभिन्न कार्यक्षमता उद्देश्यों के साथ विभिन्न विभाग शामिल होते हैं और यह कार्यविधियाँ विभिन्न क्षैतिज प्रक्रियाओं के साथ परस्पर जुड़ी होती है जहा tqm लागु किया जाता है। कंपनी में सभी को गुणवत्ता नीतियों, मानकों, उद्देश्यों और महत्वपूर्ण प्रक्रियाओं की गहन समझ होनी चाहिए क्योंकि यह उत्कृष्टता प्राप्त करने और ग्राहकों की अपेक्षाओं को पूरा करने में मदद करता है। यह एकीकृत प्रबंधन प्रक्रिया ग्राहकों, कर्मचारियों और अन्य हितधारकों की अपेक्षाओं को पूरा करने और लगातार सुधारने के तत्वों को जोड़ती है।

6. Approach to processes - प्रक्रिया के प्रति सम्पूर्ण दृष्टिकोण:
कोई भी संस्था या व्यवसायों को अपने लक्ष्यों और मिशन को प्राप्त करने के लिए और गुणवत्ता सुधार के लिए प्रक्रियाओं के प्रति सम्पूर्ण दृष्टिकोण की रणनीति अपनाना चाहिए। क्योंकी ग्राहकों के अपेक्षाओं को पूरा करने, प्रतिस्पर्धीओं के आगे डट कर खड़े रहने और उत्तम गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए एक व्यवस्थित व सम्पूर्ण दृष्टिकोण योजना बनाना बहुत आवश्यक है, जो सभी व्यावसायिक प्रक्रियाओं का मुख्य आधार बन जाता है।

7. Decision Making skills - निर्णय लेने का कौशल:
किसी भी व्यवसाय या संगठन के प्रक्रियाओं के प्रदर्शन आंकड़ा आपके संगठन के वर्तमान स्थिति को दर्शाता है। इसलिए निर्णय लेने का कौशल प्राप्त होना चाहिये, जो डेटा को लगातार इकट्ठा और विश्लेषण कर सके। क्योंकी कुशल quality management system के लिए, कंपनियों को गुणवत्ता, निर्णय लेने की सटीकता और पूर्वानुमानों को बेहतर बनाने के लिए डेटा को एकत्र और विश्लेषण करना आना चाहिए।


Total Quality Management Process - tqm प्रक्रिया

TQM process में PDCA Cycle की मुख्य भूमिका है, क्योंकि पीडीसीए साईकल एक निरंतर गुणवत्ता सुधार मॉडल है,  जिसमें निरंतर गुणवत्ता, सुधार, परिपालन और सीखने के लिए चार चरणों के क्रम है जो: Plan, Do, Check, और  Act है।

PDCA Cycle, Total Quality Management Process, tqm प्रक्रिया
  1. PLAN: यह PDCA Cycle का पहला चरण है, इसमे संगठन में आने वाले सभी परेशानियों व दोषों को देखा जाता है और उन घटकों के आधार पर नई योजनाये बनाई जाती है।
  2. DO: यह पीडीसीए साईकल का दूसरा चरण है, इस चरण में हमने जो पहले चरण में योजनाये बनाई थी उन योजनाओं को पूरा किया जाता है। और उन बदलाव को उनके दस्तावेज़ प्रक्रिया के साथ पूरा किया जाता है।
  3. CHECK: इस चरण में पिछले दोनों चरणों के आकड़ो को जाचा जाता है, और फ़िर विश्लेषण किया जाता है की जो योजनाये बनाई थी वह योजनाये सफल हुई है या नहीं।
  4. ACT: यह PDCA Cycle का आखरी चरण है। इस चरण में संगठन के सभी कर्मचारियों के साथ संवाद साधा जाता है: यदि परिवर्तन काम नहीं करता है, तो एक अलग योजना के साथ फिर से चक्र से गुजरें। या फ़िर आप सफल थे, तो परीक्षण से जो कुछ भी सीखा उसे व्यापक बदलावों में शामिल करें। चक्र को फिर से शुरू करते हुए, नए सुधारों की योजना बनाना सीखें।
इस PDCA Cycle से आप समझ गए होंगे की, यह साइकिल एक ऐसा सिस्टम है जिसे एक बार लगा कर और फिर लगातार चलने और अपने कार्यों को बेहतर बनाने के लिए उपयोग किया जा सकता है। याने यह कभी भी खत्म नही होने वाला प्रोसेस है।


यह भी पढ़े:-

TQM के लाभ, Advantage of TQM in Hindi - Benefits of tqm

  • tqm यह आज के बदलते बाजारों या उभरते उत्पादों के लिए उपयुक्त है।
  • यह बाजार की जरूरतों को समझने में मदद करता है।
  • हर एक प्रोडक्ट के दोष को खोजना और कम करना यह tqm का मुख्य कार्य है, जिससे प्रोडक्ट की बेहतर क्वालिटी मिलती है।
  • सामान्य कार्यों के साथ निरंतर सुधार के उद्देश्यों को पाने में मदद करता हैं।
  • इसको लागू करने से गुणवत्ता, ब्रांड मूल्य, ग्राहकों में विश्वास बढ़ता हैं।
  • निरंतर सुधार और उच्च-गुणवत्ता मानकों के कारण कर्मचारियों के कौशल में वृद्धि होती है।
  • ग्राहक असंतोष और पुनःनिर्माण की संभावना को कम कर देता है।
  • अनावश्यक प्रक्रियाओं को समाप्त कर के उत्पादकता में बढ़ोतरी होती है।
  • प्रोडक्ट में ग्राहकों के जरूरतों व अपेक्षा अनुसार कुछ अच्छे बदलाव करना आसान होता हैं।
  • लगातार गुणवत्ता धारणा से ग्राहकों का विश्वास बढ़ता है।
  • यह कर्मचारियों को प्रेरित करने और मनोबल बढ़ाने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
तो दोस्तों आशा करते है की आपको हमारी 'TQM क्या है? total quality management in hindi' यह पोस्ट से काफ़ी जानकारी मिली होंगी, जिसमे हमने tqm full form, tqm principles, benefits, tqm meaning in hindi और सम्पूर्ण गुणवत्ता प्रबंधन का मुख्य लाभ, tqm के तत्व क्या है? की जानकारी दी है। आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा तो हमें comments करके बताये और अपने दोस्तों में शेअर करे।

यह भी पढ़े:


No comments