Plastic kya hai? प्लास्टिक के प्रकार, प्लास्टिक की जानकारी

आज हम प्लास्टिक के बारे में जानेंगे, जैसे की प्लास्टिक क्या है?, प्लास्टिक के प्रकार, प्लास्टिक के उपयोग, फायदे और नुकसान। हमें प्लास्टिक का उपयोग हर जगह दिखता है, हमारे घर की बहुत सी चीजे इसी मटेरियल सी बनी हुई होती है, जैसे की किचन की कुछ वस्तुए, फर्नीचर और बच्चो के खिलौने आदि शामिल हैं।

आज के आधुनिक दुनिया में प्लास्टिक के आवेदन भिन्न हो सकते हैं और हमारे भारत में लगभग 40% Plastic का उपयोग पैकेजिंग में किया जाता है। ऐसा माना जाता है की दुनिया भर में, प्रति व्यक्ति प्रति वर्ष लगभग 50 किलो प्लास्टिक का उत्पादन होता है, इससे बहुत सारे औद्योगिक उत्पाद निर्मित होते हैं।

plastic kya hai, प्लास्टिक के प्रकार, plastic kya hota hai, types of plastic in hindi, प्लास्टिक क्या है, plastic kya hai in hindi, प्लास्टिक के विभिन्न प्रकार, plastic kya hoti hai, प्लास्टिक कितने प्रकार के होते हैं, प्लास्टिक के प्रकारों के नाम, plastic ke prakar,

प्लास्टिक क्या है? What is Plastic in Hindi

Plastic यह Synthetic या Semi-Synthetic सामग्रियों की एक विस्तृत श्रृंखला है, जिसमे पॉलिमर का उपयोग मुख्य घटक के रूप में किया जाता हैं। वास्तव में यह प्लास्टिक उच्च अणुभार वाले बहुलक याने Polymers होते हैं, जिनमें मूल्य को कम करने या अधिक कार्यक्षम बनाने के लिये कुछ अन्य पदार्थ भी मिश्रित किये जाते है। देखा जाये तो प्लास्टिक वास्तव में बहुलक है, जैसे की Polyethylene, Polyvinyl chloride इत्यादी।

प्लास्टिक पदार्थ और प्लास्टिक अलग-अलग हैं। एक गुण के रूप में प्लास्टिक उन पदार्थों की एक विशेषता का प्रतिनिधित्व करता है, जो स्थायी रूप से अधिक-खिंचाव या तानने के कारण अपने रूप को बदलते हैं और अपने मूल रूप में वापस नहीं आ सकते हैं।

यह प्लास्टिक को बहुलकीकरण की प्रक्रिया याने Polymerization process द्वारा बनाया जाता है। Plastic की प्लास्टिसिटी प्लास्टिक को विभिन्न आकृतियों की ठोस वस्तुओं में ढाला, निकाला या दबाया जाना संभव होता है। जो की उनकी यह अनुकूलन क्षमता और अन्य गुण प्लास्टिक को हल्का, टिकाऊ, लचीला और सस्ता बनाता है।

प्लास्टिक आमतौर पर मानव औद्योगिक प्रणालियों के माध्यम से बनाया जाता है, और अधिकतर आधुनिक प्लास्टिक जीवाश्म ईंधन आधारित रसायनों से बनता है, जैसे की प्राकृतिक गैस या पेट्रोलियम।

प्लास्टिक का आविष्कार किसने किया?

प्लास्टिक का आविष्कार सन 1862 में इंग्लैंड के Alexander Parkes ने किया था। और यह मानव निर्मित पहला प्लास्टिक सार्वजनिक रूप से लंदन में 1862 की महान अंतर्राष्ट्रीय प्रदर्शनी में इसका प्रदर्शन किया था। यह मानव द्वारा बनाई गयी पहली प्लास्टिक 'सेल्युलोइड' थी, जो कपास से प्राप्त सेलुलोस नामक पदार्थ से बनाई गयी थी। और बाद में दुनिया का पहला पूरी तरह से सिंथेटिक प्लास्टिक का आविष्कार 1907 में लियो बेकलैंड (Leo Baekeland) द्वारा किया गया था जिसने 'प्लास्टिक' शब्द गढ़ा था। यह प्लास्टिक शब्द की उत्पत्ति ग्रीक भाषा के 'प्लास्तिकोज़' शब्द से हुई है।

अलेक्जैन्डर पार्केस ने 1856 में ही पहले मानव निर्मित पहला प्लास्टिक को थर्मोप्लास्टिक सेल्युलाइड के आधार पर पेटेंट कराया, जिसका नाम उन्होंने 'पार्केसिन' रखा था। जिसे आज हम सेल्युलाइड के नाम से जानते हैं। और फ़िर 1862 में लंदन अंतर्राष्ट्रीय प्रदर्शनी में प्रदर्शित इस सामग्री ने प्लास्टिक के कई आधुनिक सौंदर्य और उपयोगिता उपयोगों का अनुमान लगाया।

प्लास्टिक के प्रकार - Types of Plastic in Hindi

प्लास्टिक के दो मुख्य प्रकार हे, पहला Thermoplastics और दूसरा Thermosets प्लास्टिक, जिसका विश्लेषण निचे दिया है:

  1. थर्मो प्लास्टिक (Thermoplastics): थर्माप्लास्टिक जो गर्मी से नरम हो जाते हैं और आसानी से ढाले जा सकते हैं। इनके उदाहरण हैं, ऐक्रेलिक, पॉलीप्रोपाइलीन, पॉलीस्टाइनिन, पॉलिथीन, पीवीसी और खिलौने।
  2. थर्मोसेट प्लास्टिक (Thermosets): थर्मोसेट जो गर्मी की प्रक्रिया से बनते हैं लेकिन फिर सेट होते हैं और फ़िर दोबारा गर्म करके आकार नहीं बदल सकते। इनके उदाहरण हैं, मेलामाइन , बैक्लाइट, पॉलिएस्टर और एपॉक्सी रेजिन। याने इस प्रकार के प्लास्टिक को गर्म करके आसानी से बदला नहीं जा सकता।

Types of Plastic Material - प्लास्टिक पदार्थ के प्रकार

प्लास्टिक पदार्थ के सात प्रकार है। सोसाइटी ऑफ़ प्लास्टिक इंडस्ट्री (SPI) ने 1988 में उपभोक्ताओं और पुनरावर्तकों को विभिन्न प्रकार के प्लास्टिक की पहचान करने की अनुमति देने के लिए एक वर्गीकरण प्रणाली की स्थापना की। निर्माता प्रत्येक प्लास्टिक उत्पाद पर एक SPI code, या संख्या, आमतौर पर नीचे ढाला होता है। यह गाइड प्रत्येक कोड संख्या के साथ जुड़े विभिन्न प्रकार के प्लास्टिक की एक मूल रूपरेखा प्रदान करता है।

Types of Plastic Material:

  1. Polyethylene Terephthalate (PETE/PET)
  2. High-Density Polyethylene (HDPE)
  3. Low-Density Polyethylene (LDPE)
  4. Polyvinyl Chloride (PVC - U)
  5. Polypropylene (PP)
  6. Polystyrene or Styrofoam (PS)
  7. OTHER: (विविध प्रकार के प्लास्टिक: polycarbonate, polylactide, acrylic, acrylonitrile butadiene, styrene, fiberglass और  nylon)

प्लास्टिक के उपयोग - Use of Plastic In Hindi

विकसित अर्थव्यवस्थाओं में, लगभग एक तिहाई प्लास्टिक का उपयोग पैकेजिंग में किया जाता है और पाइपिंग, प्लंबिंग या विनाइल साइडिंग जैसे अनुप्रयोगों में इमारतों में लगभग समान है। अन्य उपयोगों में ऑटोमोबाइल, प्लास्टिक फर्नीचर और खिलौने शामिल हैं। विकासशील दुनिया में, प्लास्टिक के आवेदन भिन्न हो सकते हैं, भारत का 40% उपयोग पैकेजिंग में किया जाता है।

चिकित्सा क्षेत्र में भी प्लास्टिक का उपयोग होता है, क्योंकि बहुलक प्रत्यारोपण और अन्य चिकित्सा उपकरण कम से कम आंशिक रूप से प्लास्टिक से प्राप्त होते हैं।

सामान्य कामो के लिए भी प्लास्टिक का प्रयोग बहुत होता है, जैसे की प्लास्टिक के चम्मच, टूथब्रश, पानी की बोतल, थाली, कप, डिस्पोजेबल ग्लास, फ़ूड बैग आदि। और साथ में औदयोगिक क्षेत्र में भी इसका प्रयोग बहुत होता है, जैसे की मटेरियल पैकेजिंग, प्लास्टिक कंटेनर, इंस्ट्रूमेंट्स, गार्ड्स इत्यादी।

प्लास्टिक से होने वाले फायदे और नुकसान

आज विभिन्न प्रकार के प्लास्टिक का उत्पादन किया जाता है, जैसे कि पॉलीथीन, जिसका उपयोग उत्पाद पैकेजिंग में व्यापक रूप से किया जाता है, और अलग अलग प्लास्टिक का उपयोग अलग अलग चीजे बनाने के लिए होता है। वैसे प्लास्टिक से होने वाले जितने फायदे है उससे कई ज्यादा नुकसान भी है, जिसे हमने निचे विश्लेषित किया है:

प्लास्टिक से होने वाले फायदे:

  • यह प्लास्टिक अपने वजन से ज्यादा वजन उठा सकता हे, जिसकी वजह से इनका उपयोग पानी, जूस के बोतल, फ़ूड पैकेजिंग, रिटेल बैग्स, दूध बैग आदि बनाने में किया जाता है।
  • प्लास्टिक हलका और लचीला होता है जिसे उपयोग करने से आसानी रहती हे।
  • प्लास्टिक के वस्तु पर हवा और पानी का कोई असर नहीं होता।
  • Electricity की उपयोगी चीजे बनाने में काम आता है, क्योंकि प्लास्टिक बिजली का कुचालक होता हे।
  • इनसे बनने वाली चीजे बाकि के मुकाबले काफ़ी सस्ते होते है।
  • औद्योगिक कार्यों में इसका उपयोग बहुत होता है क्योंकि यह सस्ता, हल्का, विद्युत, कंपन प्रतिरोधी तथा कम जगह घेरने वाला पदार्थ है।

प्लास्टिक से होने वाले नुकसान:

  • प्लास्टिक को जल्दी नष्ट नहीं किया जा सकता, उनको कई सालो लग जाते हे नष्ट होने में।
  • कुछ प्लास्टिक ज़हरीले रसायन छोड़ते है जो पानी और खाद्य के माध्यम से हमारे शरीर में पहुंचते है।
  • यह जमीन को प्रदूषित करते है।
  • पेड़-पौधों और फसलों की वृद्धि व उत्पादन को भी प्रभावित करता है।
  • प्लास्टिक को जब जलाया जाता है, तब उसमेसे एथिलीन गैस और स्टाईरिन गैस निकलती है और इसी जहरीले धुएं से पर्यावरण प्रदूषित होता है।
  • प्लास्टिक के ज्यादा उपयोग से कैंसर का भी खतरा हो सकता है।
  • यह मटेरियल की चीजे नदियों और नालों में बहने वाले पानी के साथ बहकर समुद्र तक पहुंच जाता है, जिससे समुद्री जीवो को खतरा हो सकता है।
  • यह प्लास्टिक जल प्रदूषण का भी कारण बना है, आपको यह नदी, नाले और समुंदर में दिखाई देते है।

प्लास्टिक के बारे में आपके मन के कुछ सवाल जवाब

1. प्लास्टिक का आविष्कार किसने किया?

सबसे पहले प्लास्टिक का आविष्कार सन 1862 में इंग्लैंड के अलेक्जैन्डर पार्केस ने किया था। और दुनिया का पहला पूरी तरह से सिंथेटिक प्लास्टिक का आविष्कार 1907 में लियो बेकलैंड द्वारा किया गया था।

2. सबसे मजबूत प्लास्टिक कौन सा है?

पॉलीकार्बोनेट(Polycarbonate) सबसे मजबूत प्लास्टिक है, जो कांच की तुलना में 200% अधिक मजबूत है, जो की यह आसानी से टूटता नहीं और आसानी से इसमे दरार नहीं गिरते है।

3. प्लास्टिक के मुख्य प्रकार क्या है?

प्लास्टिक के दो मुख्य प्रकार हे, 1.Thermoplastics और 2.Thermosets प्लास्टिक।

4. प्लास्टिक पदार्थ (Plastic Material) के कितने प्रकार है? 

प्लास्टिक मटेरियल के सात प्रकार है: Polyethylene Terephthalate (PETE/PET), High-Density Polyethylene (HDPE), Low-Density Polyethylene (LDPE), Polyvinyl Chloride (PVC-U), Polypropylene (PP), Polystyrene or Styrofoam (PS) और OTHER.

5. मानव निर्मित पहला प्लास्टिक कौन सा है?

मानव निर्मित पहला प्लास्टिक अलेक्जैन्डर पार्केस ने 1856 में थर्मोप्लास्टिक सेल्युलाइड के आधार पर पेटेंट कराया था, जिसका नाम उन्होंने 'पार्केसिन' रखा, जिसे हम सेल्युलाइड के नाम से जानते हैं।

6. प्लास्टिक का मतलब क्या होता है?

यह प्लास्टिक शब्द की उत्पत्ति ग्रीक भाषा के "प्लास्तिकोज़" शब्द से हुई है। जिसका मतलब "बनाना" होता है।

7. प्लास्टिक की खोज कब हुई थी?

प्लास्टिक की खोज सबसे पहले अलेक्जेंडर पार्क्स ने की, जिन्होंने लंदन में 1862 की अंतर्राष्ट्रीय प्रदर्शनी में इसका प्रदर्शन किया था। और बाद में दुनिया का पहला पूरी तरह से सिंथेटिक प्लास्टिक का आविष्कार 1907 में लियो बेकलैंड द्वारा किया गया था।

8. प्लास्टिक का सबसे ज्यादा इस्तेमाल क्यों होता हे?

क्योंकि प्लास्टिक मटेरियल अन्य धातुओं की तुलना में हलके और लचीले होते है, जिसपर हवा और पानी का असर नहीं होता। और काफ़ी सस्ते भी होते है।

9. प्लास्टिक से क्या क्या बनता है?

आज बहुत सी चीजे प्लास्टिक से बनते है, जैसे की पानी की बोतल, टूथब्रश, थाली, कप, गिलास, प्लास्टिक के चम्मच, बैग, फ़ूड पैकिंग इत्यादी। और लगभग बहुत सी वस्तुओं की पैकिंग के लिए भी प्लास्टिक का उपयोग किया जाता है।

10. प्लास्टिक कितने प्रकार के होते हैं?

Thermoplastics और Thermosets plastic यह प्लास्टिक के दो प्रकार है।

तो दोस्तों ये थी, प्लास्टिक की पूरी जानकारी जिसमे हमने plastic kya hai, प्लास्टिक के प्रकार, plastic kya hota hai, types of plastic in hindi और प्लास्टिक का आविष्कार किसने किया इन सब के बारे में जाना है।

No comments